एसडीए कॉम्प्लेक्स कसुम्पटी में एनएच के साथ बनेगी पहली स्टैक पार्किंग, कम जगह पर खड़ी कर सकेंगे ज्यादा गाड़ियां

Posted on

[ad_1]

शिमला21 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

इस तरह की पार्किंग बनाने की योजना है। फाइल फोटो

  • 100 से 150 गाड़ियां की जा सकेंगी पार्क, आरटीडीसी तैयार कर रहा प्लान

(खुशहाल सिंह) शिमला में पहली स्टैक पार्किंग एसडीए कॉम्प्लेक्स में बनेगी। इसका प्लान रोपवे एंड रैपिड ट्रांसपोर्ट सिस्टम डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन (आरटीडीसी) तैयार कर रहा है। पार्किंग में 100 से 150 गाड़ियों को पार्क करने की सुविधा होगी। यह एक स्टैक ऑफ आर्ट पार्किंग होगी, जो मैकेनिकली ऑपरेटेड होगी। इसमें कम जगह पर ज्यादा गाड़ियां पार्क की जा सकेंगी।

पार्किंग का प्लान फाइनल होने के बाद इसके लिए टेंडर जारी किए जाएंगे। एसडीए कॉम्प्लेक्स में पार्किंग के लिए जगह का चयन नेशनल हाईवे के साथ स्टेट बैंक की बिल्डिंग के साथ किया गया है। हालांकि यहां पहले ही पार्किंग बनाने का प्लान था, जिसका शिलान्यास भी किया गया था। मगर इस पर कई साल बाद भी काम नहीं किया गया। अब इसी जगह पर स्टैक पार्किंग बनेगी।

स्टैक पार्किंग में गाड़ियां स्लॉट पर रखी जाती हैं और इसके बाद इनको मैकेनिकली लिफ्ट किया जाता है। इस तरह एक ही फ्लोर में एक के ऊपर दूसरी गाड़ी स्लॉट पर पार्क की जा सकती है। स्टैक सिस्टम कम स्पेस घेरता है। आम पार्किंगों में फर्श पर ही एक ही गाड़ी पार्क रहती है, इस तरह यह ज्यादा स्पेस घेरती हैं। इसके विपरीत स्टैक पार्किंग में एक फ्लोर पर दो लेयर में गाड़ियां पार्क की जाती हैं। इनके स्लॉट को स्टील से बनाया जाता है, जो कि मैनुअली या आटोमेटेड ऑपरेटेड होती हैं।
एसडीए कॉम्प्लेक्स में अभी तक नहीं है कोई पार्किंगः एसडीए कॉम्प्लेक्स कसुम्पटी में सरकारी विभागों के निदेशालय और हेडक्वार्टर हैं। यहां न केवल काम करने वाले कर्मचारी बल्कि प्रदेश के विभिन्न विभागों से भी कर्मचारी और अन्य लोग भी आते हैं। मगर इतने बड़े कॉम्प्लेक्स के लिए एक भी पार्किंग नहीं है। ऐसे में सरकारी दफ्तरों की गाड़ियां दफ्तरों के आगे या सड़कों के किनारे पार्क की जा रही हैं। बाहर से आने वाले लोगों के लिए पार्क करने की जगह ही नहीं है। इस पार्किंग के बनने से बाहर से आने वाले लोगों को सुविधा होगी।

एसडीए कॉम्प्लेक्स में स्टैक पार्किंग बनाई जाएगी। इसका काम आरटीडीसी को दिया गया है। आरटीडीसी इसका प्लान तैयार करने के साथ-साथ इसका काम भी करवाएगा। यह एक स्टेट ऑफ आर्ट पार्किंग होगी, जो कि बेस्ट टेकनीक पर आधारित होगी। -नितिन गर्ग, जीएम, एसएससीएल

0

[ad_2]
Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *