कंगना रनोट ने टूटे ऑफिस की फोटो शेयर कर कहा- ये बलात्कार है मेरे सपनों का, जो कभी मंदिर था उसे कब्रिस्तान बना दिया

Posted on

मनाली15 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

यह फोटो कंगना रनोट के ऑफिस की है। बीएमसी ने उनके पाली हिल्स स्थित ऑफिस मणिकर्णिका फिल्म्स में अवैध निर्माण हटाने की कार्रवाई की थी।

  • कंगना ने 3 ट्वीट कर अपने ऑफिस के हर हिस्से की 12 तस्वीरें शेयर कीं
  • बीएमसी ने 9 सितंबर को उनके पाली हिल स्थित ऑफिस में अवैध निर्माण गिराया था

मुंबई में बीएमसी की कार्रवाई के 8 दिन बाद एक्ट्रेस कंगना रनोट ने अपने ऑफिस की तस्वीरें ट्विटर पर शेयर कीं। उन्होंने 3 ट्वीट किए, ‘ये बलात्कार है, मेरे सपनों का, मेरे हौसलों का, मेरे आत्मसम्मान का और मेरे भविष्य का।’

दरअसल, बीएमसी ने 9 सितंबर को कंगना के पाली हिल स्थित ऑफिस में कार्रवाई की थी और अवैध निर्माण को तोड़ दिया था। बीएमसी की टीम ने करीब दो घंटे तक जेसीबी मशीन, हथौड़े और क्रेन से तोड़फोड़ की। इसी दिन कंगना हिमाचल से मुंबई पहुंची थीं। हालांकि, कंगना ने बीएमसी की कार्रवाई पर हाईकोर्ट स्टे ले लिया है। इस मामले की सुनवाई अब 22 सितंबर को होगी।

पहला ट्वीट

दूसरा ट्वीट

तीसरा ट्वीट

कंगना को 2 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ
ऐसा बताया गया कि बीएमसी की कार्रवाई से कंगना को 2 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। कंगना ने इस तीन मंजिला ऑफिस को बनवाने करीब 48 करोड़ रुपए खर्च किए थे। एक्ट्रेस ने 10 सितंबर को कहा था ‘मैंने 15 जनवरी को ऑफिस की ओपनिंग की थी। इसके तुरंत बाद कोरोना महामारी फैल गई। ज्यादातर लोगों की तरह तब से मैंने भी कोई काम नहीं किया। मेरे पास इसे फिर से बनवाने के पैसे नहीं हैं। मैं इसी खंडहर से काम करूंगी। इसे एक महिला के ऐसे ऑफिस के रूप में रखूंगी, जिसे उसकी आवाज उठाने की वजह से तबाह कर दिया गया।’

कंगना रनोट से जुड़ी ये खबरें भी पढ़े…
1. एक्ट्रेस ने कहा- मेरे पास दोबारा ऑफिस बनवाने के पैसे नहीं, एक महिला के आवाज उठाने की वजह से इसे तबाह कर दिया
2. एक्ट्रेस का ऑफिस तोड़ने के 6 दिन बाद बीएमसी ने उनकी हाउसिंग सोसाइटी को भी नोटिस दिया, मेंबर्स की डिटेल समेत 5 जानकारियां मांगीं
3. हाईकोर्ट ने बीएमसी से कहा- अचानक नींद से जागे और नोटिस जारी कर दिया, इतनी तेजी बाकी अवैध निर्माणों पर दिखाते तो मुंबई कुछ और ही होती

0




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *