गौतम गंभीर बोले- धोनी का सातवें नंबर पर बैटिंग करना गलत, उन्हें तो टॉप ऑर्डर में आकर लीडरशिप दिखानी चाहिए थी; धोनी बोले- जो किया, वो सही

Posted on
  • Hindi News
  • Sports
  • Former Cricketer Gautam Gambhir Criticized Dhoni For Going To Number 7 For Batting

दुबई2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

मंगलवार को खेले गए आईपीएल 13 के एक मैच में राजस्थान रॉयल्स ने धोनी की सीएसके टीम को 16 रन से हरा दिया। धोनी ने खुद सातवें नंबर पर बैटिंग की। उनके इस फैसले पर गौतम गंभीर ने सवाल उठाए हैं।

  • धोनी ने अपने फैसले को सही बताया, कहा- लंबे समय से मैंने बैटिंग नहीं की थी
  • 10 साल में पहली बार राजस्थान ने पहले बैटिंग करते हुए चेन्नई को हराया

टीम इंडिया के पूर्व ओपनर गौतम गंभीर के मुताबिक, मंगलवार को राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मैच में एमएस धोनी को टॉप ऑर्डर में बल्लेबाजी करनी चाहिए थी। इस मैच में राजस्थान रॉयल्स ने सीएसके को 16 रनों से हरा दिया था। धोनी ने सातवें नंबर पर बैटिंग की थी। पहले बल्लेबाजी करते हुए राजस्थान ने 216 रन बनाए। धोनी की टीम 16 रन से मैच हार गई। धोनी ने आखिरी ओवर में हिटिंग की कोशिश की। लेकिन, तब तक देर हो चुकी थी।

गंभीर ने कहा, “साफ कहूं तो मुझे धोनी का सातवें नंबर पर बैटिंग करना हजम नहीं हुआ। उन्होंने रितुराज गायकवाड़ और सैम करेन को पहले भेजा। खुद सातवें नंबर पर आए। धोनी को लीडरशिप दिखानी चाहिए थी। 217 का टारगेट और धोनी नंबर सात पर! मुझे इसकी कोई वजह नजर नहीं आती।”

2010 के बाद पहले बैटिंग करते हुए, राजस्थान ने चेन्नई को पहली बार हराया

धोनी ने आखिरी ओवरों में बॉलर्स को टारगेट करने की कोशिश की, लेकिन तब तक देर हो चुकी थी। 2010 के बाद यह पहली बार हुआ कि राजस्थान ने चेन्नई को पहले बैटिंग करते हुआ हरा दिया। गंभीर ने कहा, “आप लास्ट ओवर की बात कर सकते हैं। धोनी ने तीन छक्के लगाए। लेकिन ये किसी काम के साबित नहीं हुए। अगर किसी दूसरे कप्तान ने ऐसा किया होता तो उसे बहुत आलोचनाओं का सामना करना पड़ता।”

धोनी बोले- जो किया, वही सही

धोनी ने खुद के सात नंबर पर बल्लेबाजी करने के फैसले का बचाव किया। कहा, “मैंने बहुत समय से बैटिंग नहीं की है। कुछ अलग चीजें ट्राई करना चाहता था सैम करन को ऊपर बैटिंग कराना उसी का हिस्सा था। हमारे पास विकल्प है कि हम पुरानी स्ट्रैटेजी का इस्तेमाल करें।”

0

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *