चोटिल फाफ का धमाकेदार खेल: खून बहता रहा, लेकिन 20 ओवर तक फील्डिंग करते रहे, फिर ओपनिंग करने आए और 43 रन ठोक डाले


5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

चेन्नई सुपर किंग्स और कोलकाता नाइट राइडर्स के मैच के दौरान फाफ डु प्लेसिस ने बाउंड्री लाइन पर एक मैजिकल कैच पकड़ा। उनके कैच पकड़ते ही सोशल मीडिया उनकी शानदार फील्डिंग्स और कैच की पुरानी तस्वीरें वायरल होने लगीं। ऐसा दावा किया गया कि सिर्फ IPL में डु प्लेसिस 3 बार ऐसे कैच पकड़ चुके हैं। लेकिन अब KKR के खिलाफ पकड़े गए कैच के बारे में एक चौंकाने वाली बात फैन्स शेयर कर रहे हैं।

फैन्स का दावा है कि जब मैच के दौरान फाफ डु प्लेसिस बाउंड्री लाइन पर भाग-भागकर फील्ड‌िंग कर रहे थे और उछल कर मैजिकल पकड़ रहे थे तब उनके पैरों से खून निकल रहा था। कैच दौरान की फोटो शेयर करते हुए फैन्स कह रहे हैं कि फाफ के बाएं घुटने के ठीक ऊपर खून का धब्बा दिख रहा है।

फिलहाल CSK या डु प्लेसिस की ओर से ऐसा कोई बयान नहीं आया है। लेकिन IPL की आधिकारिक वेबसाइट पर इस मैजिकल कैच का वीडियो शेयर किया गया है। इसमें डु प्लेसिस के बाएं घुटने के ठीक ऊपर की ओर उनकी पीली लोवर पर लाल निशान दिखाई दे रहा है।

फाफ डु प्लेसिस बाउंड्री लाइन पर खड़े थे। गेंद इतनी ऊंची थी कि सिक्सर हो जाता तो उन्होंने उछल कर गेंद को पकड़ लिया। दरअसल हुआ यूं कि जब डू प्लेसिस को लगा कि वो खुद को बाउंड्री लाइन से टच होने से बचा नहीं पाएंगे और आसपास कोई खिलाड़ी भी नहीं दिखा कि गेंद उसकी ओर फेंक दें, तो ऐसे में उन्होंने गेंद को इस तरह से उछाला कि वो बाउंड्री के अंदर से वापस आकर उसे पकड़ लें। हालांकि जब वो कैच पकड़ रहे थे तब भी वो गेंद बाउंड्री के अंदर ही गिर रही थी, लेकिन उन्होंने उल्टा होकर हाथ आगे बढ़ाकर कैच को पकड़ लिया।

फाफ डु प्लेसिस बाउंड्री लाइन पर खड़े थे। गेंद इतनी ऊंची थी कि सिक्सर हो जाता तो उन्होंने उछल कर गेंद को पकड़ लिया। दरअसल हुआ यूं कि जब डू प्लेसिस को लगा कि वो खुद को बाउंड्री लाइन से टच होने से बचा नहीं पाएंगे और आसपास कोई खिलाड़ी भी नहीं दिखा कि गेंद उसकी ओर फेंक दें, तो ऐसे में उन्होंने गेंद को इस तरह से उछाला कि वो बाउंड्री के अंदर से वापस आकर उसे पकड़ लें। हालांकि जब वो कैच पकड़ रहे थे तब भी वो गेंद बाउंड्री के अंदर ही गिर रही थी, लेकिन उन्होंने उल्टा होकर हाथ आगे बढ़ाकर कैच को पकड़ लिया।

पूरे 20 ओवर फील्डिंग करते रहे डु प्लेसिस
डु प्लेसिस ने पूरे 20 ओवर फी‌ल्डिंग की। फील्‍डिंग के बाद वो CSK की पारी शुरू करने आ गए। यानी अगर वो वाकई चोटिल थे तो भी उन्होंने अपनी बैटिंग ऑर्डर में कोई चेंज करने को नहीं कहा। वो ओपनिंग करने आए।

फील्डिंग के बाद ओपनिंग बैटिंग करने आ गए डु प्लेसिस
डु प्लेसिस ने बैटिंग करते हुए 30 गेंद महत्वपूर्ण 43 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 7 चौके भी जमाए। ऋतुरात गायकवाड़ के साथ मिलकर उन्होंने पहले विकेट के लिए 74 रन की पार्टनरशिप की। जब 12वें ओवर में आउट हुए तो स्कोर 102 रन पहुंच गया था। यानी उन्होंने चेन्नई की जीत की नींव रख दी थी।

बैटिंग के दौरान भी डु प्लेसिस की लोवर पर वो धब्बा दिखाई दे रहा था। इसके दो वजहें हो सकती हैं। पहला कि डु प्लेसिस ने KKR की पारी खत्म होने और CSK की पारी शुरू होने के बीच लोवर नहीं बदला। या फिर खून इतना ज्यादा बह रहा था कि लोवर बदलने के बाद जब वो बैटिंग करने आए तब दोबारा उनकी लोवर पर खून के धब्बा लग गए।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: