दलाई लामा का विश्व नेताओं से आह्वान- पर्यावरण संरक्षण के लिए साथ मिलकर करें काम

Posted on

धर्मशाला4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

दलाईलामा ने कहा जलवायु परिवर्तन पर सबको मिलकर काम करना चाहिए। फाइल फोटो

  • दलाई लामा ने जलवायु परिवर्तन विषय पर आयोजित जी-7 संसदीय नेताओं की वर्चुअल बैठक में भेजा वीडियो संदेश

तिब्बतियों के आध्यात्मिक गुरु दलाई लामा ने विश्व नेताओं से आह्वान किया है कि वे जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर गतिरोध और अज्ञानता के खिलाफ लड़ें और जलवायु के अनुकूल दुनियां और अपने अधिकार का दावा करने के लिए खड़े हों। दलाई लामा ने यह उद्गार आर्थिक और पर्यावरणीय न्याय के साथ जलवायु परिवर्तन विषय पर आयोजित जी-7 संसदीय नेताओं की वर्चुअल बैठक में एक वीडियो संदेश में व्यक्त किए।

जलवायु परिवर्तन के मसले पर दलाई लामा ने कहा कि ये सभी की ज़िम्मेदारी है। हम सबको साथ मिलकर काम करना चाहिए और इसे प्राथमिकता देनी चाहिए। बड़े देश केवल अपने मुनाफ़े के बारे में सोचते हैं और जलवायु परिवर्तन का मुद्दा उनके एजेंडे में काफी नीचे अब हमें ग्लोबल वार्मिंग के बारे में अधिक ध्यान देना चाहिए।

इस बैठक का आयोजन अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी ने किया था जो हिमालय क्षेत्र के लिए एक लंबे समय से प्रयासरत हैं। चीन के दबाव के कारण अंतर्राष्ट्रीय नेताओं की दलाई लामा के साथ कम मुलाकातें होती रही हैं। दलाई लामा ने अपने वीडियो संबोधन में कहा कि लोगों को आज इस प्लेनेट को बचाने में अधिक भावना है।

दलाई लामा ने कहा कि यदि आप (पिछले) इतिहास को देखें, तो व्यक्तिगत राष्ट्र, व्यक्तिगत धर्म पर बहुत अधिक जोर दिया गया है। व्यक्तिवाद बहुत समस्या पैदा करता है। मूल रूप से, आप देखते हैं, वे स्वार्थी, आत्म-केंद्रित दृष्टिकोण हैं। दलाई लामा ने कहा कि जलवायु परिवर्तन दुनियां के कुछ सबसे शक्तिशाली लोगों को प्रभावित कर रहा है। दलाई लामा ने कहा कि ग्लोबल वार्मिंग के कारण बहुत अधिक वर्षा होती है। कुछ क्षेत्र सूख जाते हैं। इसलिए ये लोग पीड़ित होते हैं।

विशेष रूप से अफ्रीका और भारत और चीन के कुछ क्षेत्र में भी। उन्होंने कहा कि आर्थिक लाइनों के साथ प्रभाव भी असंतुलित है। बैठक में ब्रिटेन, कनाडा, यूरोपीय संघ, फ्रांस, जर्मनी, इटली और जापान के समकक्षों के साथ पेलोसी को लाया गया।

0


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *