दलाई लामा ने कहा वे अगले साल ताइवान की यात्रा कर सकते है, वहां के एक संगठन ने न्यौता भेजा

Posted on

धर्मशाला9 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

दलाई लामा ने कहा वे अगले साल ताइवान की यात्रा कर सकते है। फाइल फोटो

  • दलाई लामा ने शेयर किया ताइवान के पूर्व राष्ट्रपति ली तेंग के लिए शोक संदेश

(प्रेम सूद). एक ओर जहां चीन सारी दुनिया को आंखें दिखाने की कोशिश करता है, उसके दो सबसे धुर विरोधी तिब्बत और ताइवान ही आपस में नजदीकियां बढ़ाने से नहीं कतरा रहे हैं। तिब्‍बतियों के सर्वोच्‍च आध्यात्मिक गुरु दलाई लामा ने पहले ताइवान यात्रा करने की इच्‍छा जताई थी। अब उन्होंने ताइवान को लोकतांत्रिक व्यवस्था में तब्दील करने वाले पूर्व राष्ट्रपति ली तेंग-हुई को अपना करीबी दोस्त बताते हुए उनके निधन पर शोक जताया है।

ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने दलाई लामा के वीडियो संदेश को शेयर भी किया है। दलाई लामा ने कहा है कि स्वर्गीय ली तेंग-हुई, मेरे दोस्त थे, उन्होंने लोकतंत्र के प्रति काफी प्रतिबद्धता दिखाई। उन्होंने पहली बार ताइपे जाने पर तेंग-हुई के साथ हुई मुलाकात को याद किया। उन्होंने बताया कि उसके बाद ही वह नजदीकी दोस्त बन गए।

दलाई लामा ने कहा कि लोकतंत्र, आजादी और ताइवान में चीनी संस्कृति के संरक्षण के लिए उनकी सराहना करनी चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि उनके नजदीकी दोस्त के तौर पर मैं हमेशा उन्हें याद करता हूं और बौद्ध के तौर पर मैं हमेशा प्रार्थना करता हूं। मैं उनकी कोशिशों की सराहना करता हूं। वह अब हमारे बीच नहीं हैं लेकिन बौद्ध के तौर पर हम हमेशा एक जीवन के बाद दूसरे जीवन में विश्वास रखते हैं। काफी संभावना है कि वह ताइवान में दोबारा जन्म लेंगे। दलाई लामा ने प्रार्थना करते हुए कहा कि ली तेंग-हुई का पुनर्जन्म हो, उनका दोबोरा जन्म होने से उनकी आत्मा हमेशा जिंदा रहेगी।

अगले साल यात्रा करने का ऐलान

दलाई लामा ने वाइस ऑफ तिब्‍बत के सोशल मीडिया पेज पर घोषणा की कि उन्‍हें ताइवान के एक संगठन की ओर से न्‍यौता म‍िला है। दलाई लामा ने कहा कि वह वर्ष 2021 में ताइवान की यात्रा कर सकते हैं। उन्‍होंने यह नहीं बताया कि उन्‍हें किस संगठन से न्योता म‍िला है। वुहान कोरोना वायरस के दुनिया में फैलने के बाद से ही दलाई लामा लोगों से नहीं मिल रहे हैं और न ही विदेशों की यात्रा कर रहे हैं।

0


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *