धीमी गति से चल रहा कुमारहट्टी फ्लाईओवर का काम, तीसरी डेडलाइन पर भी पूरा नहीं हो पाएगा

Posted on

[ad_1]

सोलन/कुमारहट्‌टीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

कुमारहट्टी में निर्माणाधीन फ्लाई ओवर का काम अक्टूबर में भी नहीं हो पाएगा पूरा।

  • पहले 31 मार्च, अब अक्टूबर की है डेडलाइन, समय पर काम पूरा न होने से लोगों को आ रही परेशानी

(पवन ठाकुर)
परवाणू-सोलन फोरलेन प्रोजेक्ट का काम अभी भी धीमी रफ्तार से चल रहा है। कुमारहट्टी फ्लाईओवर का काम कब से आखिरी चरण में है, लेकिन पूरा होने में अभी भी पांच से छह माह और लग सकते हैं। निर्माता कंपनी का दावा है कि नवंबर में इसे ट्रैफिक के लिए खोल दिया जाएगा, पर जिस गति से यहां काम चल रहा है उससे नहीं लगता कि इस तीसरी डेडलाइन में भी यह काम पूरा हो सके।

पहले इस प्रोजेक्ट को पूरा करने की डेड लाइन मार्च, 2018 फिर मार्च, 2020 हुई। इस बीच कई स्थानों पर बड़े काम अभी भी रह गए हैं। कुमारहट्टी का फ्लाईओवर भी इनमें से एक है। इसे पूरा करने के लिए लॉकडाउन के बाद अक्टूबर तक का समय दिया था।

कोरोना संकट ने परवाणू-सोलन फोरलेन प्रोजेक्ट की निर्माता कंपनी को भी काम पूरा करने के लिए और समय दे दिया था। कुमारहट्टी फ्लाईओवर का काम को 31 मार्च तक पूरा होना था, लेकिन लॉकडाउन के कारण काम बंद हुआ और अब आधी से भी कम लेबर के साथ काम हो रहा है। प्रशासन ने भी निर्माता कंपनी को अक्टूबर तक का समय दे दिया है।

अभी भी कुमारहट्टी चौक से सोलन की ओर पेट्रोल पंप तक काफी काम होना बाकी है। लॉकडाउन से पहले भी इसका काम निर्धारित31मार्च तक पूरा नहीं हो रहा था। जब लॉकडाउन लगा तो तब एक सप्ताह का समय ही फ्लाईओवर को पूरा करने की डेडलाइन काे रह गया था। लॉकडाउन के बाद यहां फिर काम शुरू हुआ तो लेबर कम रह गई। फिर भी कंपनी ने दावा किया कि 31जुलाई तक इसका काम पूरा कर लिया जाएगा। कंपनी इस दावे पर भी खरी नहीं उतरी।

अक्टूबर माह शुरू हो गया है और अभी भी पेट्रोल पंप के पास जहां फ्लाईओवर को एनएच में मिलना है वहां अभी काफी काम होना है। प्रोजेक्ट निर्माता कंपनी जीआर इंफ्राके धीमे काम और लैंड स्लाइडिंग के कारण यह प्रोजेक्ट दो साल की देरी से चल रहा है। कुमारहट्टी फ्लाईओवर भी इसी प्रोजेक्ट का एक हिस्सा है।

60 करोड़ की लागत से बन रहा फ्लाईओवर : कुमारहट्टी में करीब 60 करोड़ रुपए की लागत से 382 मीटर लंबा फ्लाईओवर का निर्माण हो रहा है। कुमारहट्टी का बाजार फोरलेन की जद में आ रहा था। इसे बचाने को यहां फ्लाईओवर का निर्माण किया जा रहा है। चंडीगढ़ की और से शिमला जाने वाला ट्रैफिक कुमारहट्टी बाजार से पहले ही फ्लाईओवर पर जाएगा।

जबकि लोकल और नाहन जाने वाला ट्रैफिक फ्लाईओवर के नीचे से गुजरेगा। पहले यहां कंपनी के 110 मजदूर और इंजीनियर्स की टीम काम कर रही थी, लेकिन अब काम काफी धीमा हो गया है और यहां इन दिनों 45 से 50 मजदूर ही काम कर रहे हैं। जीआर इंफ्रा कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर बलविंद्र सिंह ने कहा कि फ्लाईओवर पर नवंबर के आखिर में ट्रैफिक शुरू कर दिया जाएगा। इस बारे में जिला प्रशासन से बात हुई है।

[ad_2]
Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *