भास्कर क्रिकेट पॉडकास्ट: भारत दूसरी पारी में 325 रन की बढ़त हासिल कर लेता है तो न्यूजीलैंड के लिए मैच बचाना होगा मुश्किल

0
18


  • Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • Ind Vs NZ Bhaskar Cricket Podcast If India Takes Lead Of 325 Runs Then It Will Be Difficult For New Zealand To Save The Match

नई दिल्ली2 घंटे पहले

टीम इंडिया ने कानपुर टेस्ट के तीसरे दिन जोरदार वापसी की है। अक्षर पटेल (62/5) और रविचंद्रन अश्विन (82/3) की शानदार गेंदबाजी की बदौलत भारत ने न्यूजीलैंड को 296 रन के स्कोर पर समेटकर पहली पारी के आधार पर 49 रन की बढ़त हासिल की ली। भारतीय टीम ने इसके बाद स्टंप्स तक अपनी दूसरी पारी में एक विकेट खोकर 14 रन बना लिए हैं। भारत की कुल बढ़त 63 रन की हो गई है। दिग्गज कमेंटेटर सुशील दोषी ने अपने पॉडकास्ट में कहा कि अगर टीम इंडिया 325 रन के आसपास की बढ़त हासिल कर लेती है तो न्यूजीलैंड के लिए मैच बचाना काफी मुश्किल होगा।

अक्षर पटेल ने उम्मीद से बेहतर गेंदबाजी की
दोषी ने कहा कि अक्षर पटेल ने तीसरे दिन के खेल में उम्मीद से बेहतर गेंदबाजी की। उन्होंने कहा- अक्षर पटेल आम तौर पर तभी अच्छा प्रदर्शन करते हैं, जब पिच से बहुत ज्यादा मदद मिल रही हो। लेकिन, शनिवार को उन्होंने पांच विकेट निकालकर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया। हालांकि, उनकी कामयाबी के पीछे रविचंद्रन अश्विन की बेहतरीन गेंदबाजी का बड़ा हाथ रहा। अश्विन ने 42.3 ओवर में 82 रन देकर 3 विकेट लिए और दूसरे छोर से लगातार दबाव बनाए रखा।

पुजारा से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद
दोषी को भारत की दूसरी पारी में चेतेश्वर पुजारा से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है। उन्होंने कहा- तकनीक के लिहाज से पुजारा भारतीय टीम के सबसे दमदार बल्लेबाज हैं। वे लंबे समय से बहुत अच्छा परफॉर्म नहीं कर पाए हैं। ऐसे में उनके अंदर एक बड़ी पारी की भूख निश्चित रूप से होगी और वे टेस्ट के चौथे दिन बड़ा स्कोर अपने नाम करने की पूरी कोशिश करेंगे।

अश्विन ने गलती नहीं की लेकिन अंपायर भी इंसान ही हैं
मैच के तीसरे दिन रविचंद्रन अश्विन और अंपायर नितिन मेनन के बीच बहस भी हुई। अश्विन राउंड द विकेट गेंद फेंककर बार-बार अपना फॉलो थ्रू बदल रहे थे। इस पर नितिन मेनन ने आपत्ति जताई और अश्विन के साथ उनकी बहस भी हुई। इस मुद्दे पर दोषी ने कहा कि अश्विन ने जो किया, वह नियमों के दायरे में ही था। अंपायर के कुछ फैसले गलत हुए थे, इसलिए वे दबाव में होंगे। हालांकि, हमें नहीं भूलना चाहिए कि अंपायर भी इंसान ही होते हैं। अच्छी बात है कि यह मामला बिना खास तूल पकड़े खत्म हो गया।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here