मकर संक्रांति 2022: गर्म चश्मों में स्नान करने के बाद लौटे श्रद्धालु

0
28
तत्तापानी में स्नान करते श्रद्धालु।


धर्मवीर गौतम, संवाद न्यूज एजेंसी, करसोग (मंडी)
Published by: अरविन्द ठाकुर
Updated Sat, 15 Jan 2022 11:13 AM IST

सार

करसोग प्रशासन ने खरीदारी के लिए जुटने वाली अनावश्यक भीड़ को रोकने के लिए पहले ही सड़कों के किनारे और मेला ग्राउंड में सजाई गई दुकानें हटा दी थीं। मकर संक्रांति के दिन गर्म पानी के चश्मों के समीप जो तुलादान के लिए पंडाल लगाए गए थे, उन्हें भी पुलिस ने हटा दिया।

तत्तापानी में स्नान करते श्रद्धालु।
– फोटो : संवाद

ख़बर सुनें

धार्मिक पर्यटन स्थल तत्तापानी में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच मकर संक्रांति पर इस बार प्रशासन ने काफी सख्ती बरती। सामाजिक दूरी के साथ सिर्फ स्नान और पूजा करने की ही अनुमति दी गई। हजारों श्रद्धालु गर्म चश्मों में स्नान के बाद अपने घर लौट गए। पुलिस ने स्नान के बाद लोगों को ज्यादा देर नहीं रुकने दिया। प्रशासन की मनाही के बाद भी तुलादान के स्टाल और अन्य दुकानें सज गई थीं। इसकी भनक लगते ही प्रशासन ने तुलादान के स्टाल और दुकानें वहां से हटा दीं। 

करसोग प्रशासन ने खरीदारी के लिए जुटने वाली अनावश्यक भीड़ को रोकने के लिए पहले ही सड़कों के किनारे और मेला ग्राउंड में सजाई गई दुकानें हटा दी थीं। मकर संक्रांति के दिन गर्म पानी के चश्मों के समीप जो तुलादान के लिए पंडाल लगाए गए थे, उन्हें भी पुलिस ने हटा दिया। तत्तापानी में शिमला-करसोग मुख्य मार्ग पर वाहनों की आवाजाही सामान्य दिनों की तरह ही रही। 

बता दें कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने पर सरकार ने पांच जनवरी को धार्मिक आयोजनों सहित मेलों पर बंदिशें लगाई थीं। तत्तापानी में होने वाले जिला स्तरीय मकर संक्रांति मेले को भी रद्द किया गया था। ऐसे में प्रशासन ने मेला ग्राउंड और सड़कों पर अस्थायी दुकानें लगाने की अनुमति नहीं दी। एसडीएम सनी शर्मा ने कहा कि मकर संक्रांति पर लोगों की अनावश्यक भीड़ न जुटे, इसके लिए उड़नदस्ता लोगों की गतिविधियों पर नजर रख रहा है। आदेशों की अवहेलना करने वालों पर कार्रवाई करने के आदेश दिए गए हैं।

विस्तार

धार्मिक पर्यटन स्थल तत्तापानी में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच मकर संक्रांति पर इस बार प्रशासन ने काफी सख्ती बरती। सामाजिक दूरी के साथ सिर्फ स्नान और पूजा करने की ही अनुमति दी गई। हजारों श्रद्धालु गर्म चश्मों में स्नान के बाद अपने घर लौट गए। पुलिस ने स्नान के बाद लोगों को ज्यादा देर नहीं रुकने दिया। प्रशासन की मनाही के बाद भी तुलादान के स्टाल और अन्य दुकानें सज गई थीं। इसकी भनक लगते ही प्रशासन ने तुलादान के स्टाल और दुकानें वहां से हटा दीं। 

करसोग प्रशासन ने खरीदारी के लिए जुटने वाली अनावश्यक भीड़ को रोकने के लिए पहले ही सड़कों के किनारे और मेला ग्राउंड में सजाई गई दुकानें हटा दी थीं। मकर संक्रांति के दिन गर्म पानी के चश्मों के समीप जो तुलादान के लिए पंडाल लगाए गए थे, उन्हें भी पुलिस ने हटा दिया। तत्तापानी में शिमला-करसोग मुख्य मार्ग पर वाहनों की आवाजाही सामान्य दिनों की तरह ही रही। 

बता दें कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने पर सरकार ने पांच जनवरी को धार्मिक आयोजनों सहित मेलों पर बंदिशें लगाई थीं। तत्तापानी में होने वाले जिला स्तरीय मकर संक्रांति मेले को भी रद्द किया गया था। ऐसे में प्रशासन ने मेला ग्राउंड और सड़कों पर अस्थायी दुकानें लगाने की अनुमति नहीं दी। एसडीएम सनी शर्मा ने कहा कि मकर संक्रांति पर लोगों की अनावश्यक भीड़ न जुटे, इसके लिए उड़नदस्ता लोगों की गतिविधियों पर नजर रख रहा है। आदेशों की अवहेलना करने वालों पर कार्रवाई करने के आदेश दिए गए हैं।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here