साेशल डिस्टेंसिंग-मास्क लगाना जरूरी, लेकिन हम भूल रहे ये सबक

Posted on

[ad_1]

शिमलाएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
  • स्थानीय लाेग और पर्यटक अब आ रहे रहैं शिमला, लेकिन बाजारों में नहीं मान रहे नियम

प्रदेश में पर्यटकाें के आने जाने की खुली छूट है। जिला प्रशासन और पुलिस ने पूरी तैयारियां की हैं। स्थानीय लाेग और पर्यटक काेराेना से बचाव काे लेकर लापरवाही बरत रहे हैं। ऐसे में काेराेना से कैसे बचाव हाेगा, इसकाे लेकर बाहर से आने वाले पर्यटक और कुछ स्थानीय लाेग गंभीर नहीं हैं। रिज और मालरोड पर पुलिस खुद भी लाेगाें काे जागरूक कर रही है और लाउड स्पीकर भी लगाए हुए हैं। बावजूद लाेग समझने काे तैयार नहीं हैं। कहीं सोशल डिस्टेंगिंस नहीं है तो कहीं बिना मास्क घूमा जा रहा है। एसपी मोहित चावला ने बताया कि लाेगाें से आग्रह कर रहे हैं कि साेशल डिस्टेंसिंग और मास्क जैसे नियमाें का पालन करें। बावजूद कुछ लाेग नियमाें का उल्लंघन कर रहे हैं। उनका चालान किया जा रहा है।

लाउडस्पीकर से दे रहे संदेश

हिमाचल में पर्यटकाें के आने की परमिशन दे दी है। स्थानीय लाेग भी बड़े आराम से अब बाजार आ जा सकते हैं। जिला प्रशासन और पुलिस ने लाेगाें काे साेशल डिस्टेंसिंग और मास्क लगाने के लिए लाउड स्पीकर पर संदेश दिया जा रहा है।

पर्यटक हैं हमारे मेहमान

प्रदेश में हाेटल इंडस्ट्री से लेकर कई दूसरे सेक्टराें से जुड़े हजाराें लाेगाें का राेजगार पर्यटन से जुड़ा है। पर्यटकाें के आने पर किसी काे आपत्ति नहीं है, लेकिन इस तरह बिना मास्क लगाए घूमने से पर्यटकाें और स्थानीय लाेगाें की सेहत और सुरक्षा दाेनाें मुश्किल में होगी।

पुलिस भी समझा रही

कुछ लाेगाें ने मास्क ताे लगाया है, लेकिन वे अपना मुंह पूरा नहीं ढक रहे हैं। पुलिस चालान करने से पहले लाेगाें काे सही तरीके से मास्क लगाने की बात समझा रही है, लेकिन कुछ लाेग फिर भी नहीं समझ रहे। ऐसे लाेगाें का 500 रुपए चालान किया जा रहा है।

[ad_2]
Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *