सोशल मीडिया पर बीफ खाने से जुड़े बयान पर कंगना रनौत को हाईकोर्ट से मिली क्लीन चिट

Posted on

[ad_1]

  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Kangana Ranaut Gets A Clean Chit From High Court In The Statement Related To Eating Beef On Social Media.

चंडीगढ़एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

जज ने कहा कि ऐसा नहीं लग रहा कि यह कंगना ने पोस्ट किया। परिस्थितियां यह कहीं नहीं दर्शाती की कंगना ने इस मामले में कोई अपराध किया। ऐसे में याचिका को स्वीकार नहीं किया जा सकता।

  • जस्टिस मनोज बजाज ने इस संबंध में याचिका को आधारहीन बताते हुए खारिज कर दिया
  • लुधियाना निवासी नवनीत गोपी ने याचिका दायर कर कहा कि कंगना अपने बयानों के जरिए बीफ़ खाने को बढ़ावा दे रही है

(ललित कुमार).सोशल मीडिया पर बीफ खाने से जुड़े बयान पर एक्ट्रेस कंगना रनौत को पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट से क्लीन चिट मिल गई है। जस्टिस मनोज बजाज ने इस संबंध में याचिका को आधारहीन बताते हुए खारिज कर दिया। कोर्ट ने कहा कि ऐसा कहीं भी नहीं लग रहा कि कंगना रनौत बीफ खाने को प्रोत्साहित कर रही है बल्कि उनकी पोस्ट बता रही है कि वो खुद शाकाहारी हो गई हैं।

दूसरी पोस्ट में कंगना भारत और विदेशों में खाने के बीच अंतर को लेकर चर्चा कर रही है। उन्होंने कहा कि जो पोस्ट आजकल सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, ऐसा नहीं लग रहा कि यह कंगना ने पोस्ट किया। परिस्थितियां यह कहीं नहीं दर्शाती की कंगना ने इस मामले में कोई अपराध किया। ऐसे में याचिका को स्वीकार नहीं किया जा सकता।

बीफ को लेकर कंगना ने यह लिखा था

कंगना ने 2019 में अपने ट्वीट में लिखा था,”गोमांस खाने या किसी अन्य मांस को खाने में कुछ भी गलत नहीं है। यह धर्म के बारे में नहीं है! यह बात किसी से छुपी नहीं है कि कंगना ने 8 साल पहले ही शाकाहारी जिंदगी और योगी बनना चुन चुकी थीं। वह अब भी किसी एक धर्म में विश्वास नहीं रखती हैं। इसके अलावा, कंगना के भाई मांस खाते हैं और इस वजह से वह कंगना से कम हिंदू नहीं हो जाते हैं। हम मध्यकालीन युग में नहीं जी रहे हैं। आज कोई भी अपना धर्म बना सकता है और उसका अनुसरण कर सकता है।”

कंगना के खिलाफ पुलिस में भी दी गई थी शिकायत

बता दें कि कंगना रनौत के खिलाफ लुधियाना निवासी नवनीत गोपी ने हाइकोर्ट में याचिका दायर कर कहा कि कंगना अपने बयानों के जरिए बीफ खाने को बढ़ावा दे रही है। इससे उनकी धार्मिक भावनाएं आहत हुईं है। उन्होंने मांग की थी कि कंगना रनोट पर सेक्शन 8 पंजाब गौ हत्या रोकथाम कानून, 1995, सेक्शन 66 और 67 इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट, 2000 और भारतीय दंड संहिता, 1860 की धारा 295 के तहत मामला दर्ज किया जाए। लेकिन अब तक कोई कार्यवाही नहीं हुई। लुधियाना के पुलिस कमिश्नर को भी इस बारे में शिकायत की गई लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की गई। याचिका में मांग की कि कंगना रनौत पर इस मामले में केस दर्ज किया जाए।

0

[ad_2]
Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *