स्टूडेंट्स के एग्जाम और हॉस्टल संबंधी कई समस्याओं को लेकर एबीवीपी ने वीसी ऑफिस के सामने किया प्रोटेस्ट

Posted on

  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • ABVP Protested In Front Of VC Office Regarding Various Problems Related To Students’ Exams And Hostels.

चंडीगढ़15 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

इस दौरान स्टूडेंट्स ने वीसी और डीएसडब्ल्यू के विरोध में नारे भी लगाए। (फोटो: अश्विनी राणा).

  • स्टूडेंट्स की मांग थी कि रिसर्च स्कॉलर्स के लिए हॉस्टल,लाइब्रेरी और लैब्स खोली जाएं
  • कोर्सेस के लिए एंट्रेंस एग्जाम करवाए जाएं और स्टूडेंट्स को तुरंत प्रभाव से हॉस्टल खाली करने के लिए दबाव न बनाया जाए

गुरुवार को एबीवीपी ने पंजाब यूनिवर्सिटी में स्टूडेंट्स के एग्जाम और हॉस्टल संबंधी कई समस्याओं को लेकर धरना प्रदर्शन किया। ये धरना प्रदर्शन वीसी प्राे.राजकुमार के ऑफिस के बाहर किया गया। स्टूडेंट्स की मांग थी कि रिसर्च स्कॉलर्स के लिए हॉस्टल,लाइब्रेरी और लैब्स खोली जाएं। इसके साथ ही कोर्सेस के लिए एंट्रेंस एग्जाम करवाए जाएं और स्टूडेंट्स को तुरंत प्रभाव से हॉस्टल खाली करने के लिए दबाव न बनाया जाए। इस दौरान स्टूडेंट्स ने वीसी और डीएसडब्ल्यू के विरोध में नारे भी लगाए।

  • स्टूडेंट्स का कहना था कि लॉकडाउन के कारण यूनिवर्सिटीज और कॉलेज्स बंद थीं। लेकिन अब दिल्ली यूनिवर्सिटी,आईआईटी और यहां तक की पंजाबी यूनिवर्सिटी पटियाला ने भी रिसर्च स्कॉलर्स के लिए हॉस्टल खोल दिए हैं। लेकिन हमारी यूनिवर्सिटी और डीएसडब्ल्यू इतने निकम्मे और बे फिक्रे हैं कि अब तक इन्होंने स्टूडेंट्स के हक में कोई फैसला नहीं लिया है।
  • दूसरी मांग ये थी कि कोर्सेस के लिए एंट्रेस एग्जाम करवाए जाएं। स्टूडेंट्स का कहना था कि बहुत से स्टूडेंट एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी करते हैं और यहां तक कि अपने साल तक ड्रॉप कर देते हैं। ऐसे में उन स्टूडेंट्स के साथ नाइंसाफी होगी। इसलिए एबीवीपी की अपील है कि कोविड 19 के सभी नियमों का पालन करते हुए पुख्ता व्यवस्थाओं के साथ ये एग्जाम करवाए जाएं।
  • तीसरा ये भी सामने आया है कि कई हॉस्टल स्टूडेंट्स को मंथली एचआरए और गेस्ट चार्जेस के लिए कॉन्टैक्ट कर रहे हैं। जबकि बहुत से स्कॉलर यूनिवर्सिटी से बाहर किराये पर रहते हैं। इसमें कोई दो राय नहीं कि उनका मंथली रेंट उन्हें मिलने वाले एचआरए से कहीं अधिक है। इसलिए उसके लिए यह मुश्किल है कि वह हॉस्टल के चार्ज भी दें। चूंकी स्टूडेंट्स ने पिछले छह महीने से हॉस्टल की सुविधा नहीं ली है और कई परिवार महामारी के इस दौर में फाइनेंशियल क्राइसिस से भी गुजर रहे हैं, ऐसे में उनसे हॉस्टल चार्ज मांगना सही नहीं है। इसलिए स्टूडेंट्स और स्कॉलर्स से कोई एचआरए या मंथली चार्ज न लिए जाएं।


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *