1400 टैक्स डिफाॅल्टरों से 14.22 लाख रुपए की रिकवारी, चैकिंग अभियान जारी

Posted on

[ad_1]

शिमलाएक दिन पहले

  • कॉपी लिंक
  • ई-वे बिल पर टैक्स चाैरी करने वालाें पर 100 फीसदी पैनल्टी की तैयारी, 10 हजार व्यापारी एक्साइज डिपार्टमेंट की रडार में

आबकारी एंव कराधान विभाग ई-वे बिल पर पर टैक्स चाैरी करने वालाें से साै फीसदी पैनलटी वसूलेगा। इस माध्यम से टैक्स चाेरी करने वालाें के खिलाफ आबकारी एवं कराधान विभाग ने चैकिंग की विशेष मुहिम शुरू कर दी है। ई-वे बिल पर टैक्स चाेरी करने वाले 1400 टैक्स डिफाॅल्टराें से विभाग 14.22 लाख रुपए की रिकवरी कर चुका है।

लाॅकडाउन के बाद व्यापारिक गतिविधियाें के शुरू हाेने के साथ प्रदेश में व्यापारियाें द्वारा टैक्स चाेरी की घटनाएं भी बढ़ने लगी है। प्रदेश में कई काराेबारी ई-वे बिल के माध्यम से ज्यादा का सामान ला कर कम का दिखा कर विभाग की आंखाें में धूल झाैंकने की काेशिश कर रहे है। ऐसे टैक्स डिफाॅल्टराें की विभाग ने थड़पकड़ तेज कर दी है। आबकारी एंव कराधान के आयुक्त रोहन चंद ठाकुर ने कहा कि ई-वे बिल पर टैक्स चाेरी करने वालाें के खिलाब चैकिंग का विशेष अभियान शुरू किया गया है। चैकिंग के दाैरान 1600 टैक्स डिफाल्टराें से विभाग ने 14.22 लाख रुपए की रिकवरी की है।

50 हजार से ज्यादा के सामान लागू हाेता है ई-वे बिल
ई-वे बिल सिस्टम को पचास हज़ार रुपए से अधिक के सामान को सड़क, रेल, वायु या जलमार्ग से एक राज्य से दूसरे राज्य में ले जाने पर लागू किया गया है। ई-वे बिल, जीएसटी के तहत एक बिल प्रणाली है जो वस्तुओं के हस्तांतरण की स्थिति में जारी की जाती है। इसमें हस्तांतरित की जाने वाली वस्तुओं का विवरण और उस पर लगने वाले जीएसटी की पूरी जानकारी होती है। जिसे व्यापारी विभाग से छुपा कर कम का दर्शा रहे है। विभाग ने इस हेराफेरी काे राेकने के लिए प्रदेश में चैकिंग का विशेष अभियान छेड़ दिया है।

केंद्र ने टैक्स कलेक्शन बढ़ाने के लिए शुरू की है व्यवस्था
केंद्र ने टैक्स चाेरी काे राेकने और टैक्स काॅलेक्शन काे बढ़ावा देने के लिए ई-वे बिल प्रणाली काे शुरू किया। ई-वे बिल के बन जाने के बाद ई-वे बिल में दिए गए डिटेल्स के अनुसार सामान नहीं ले जाया जाता है, तो बिल को 24 घंटों के भीतर रद्द कर दिया जा सकता है। लेकिन यहां पर कई व्यापार विभाग 24 घंटे के भीतर कई बार बाहर से सामान ला कर टैक्स चाेरी काे बढ़ावा दे रहे है। इस बात का भी पता लगाने के लिए विभाग ने अपनी कमर कस ली है।

0

[ad_2]
Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *