Notice To The Cleaning Contractor On The First Day In Sujanpur – सुजानपुर में पहले दिन सफाई ठेकेदार को नोटिस


ख़बर सुनें

सुजानपुर (हमीरपुर)। नगर परिषद सुजानपुर ने सोमवार को सफाई व्यवस्था संतोषजनक न होने पर ठेकेदार को नोटिस जारी किया है। नगर परिषद अधिकारी संजय कुमार ने शहर में निरीक्षण के दौरान कई खामियां पाईं। एक दिन पहले ही नए ठेकेदार ने सफाई व्यवस्था का ठेका आवंटन किया गया था। लेकिन पहले ही दिन नियम शर्तों को कमी देखकर परिषद के अधिकारी ने सख्त रवैया अपनाया।
नगर परिषद सुजानपुर के तहत कुल 9 वार्ड हैं। नगर परिषद सुजानपुर वार्डों के अलावा ऐतिहासिक चौगान की सुंदरता को लेकर जिम्मेवारी संभाले हुए हैं। शहर में सफाई व्यवस्था को सुचारु बनाए रखने के लिए ठेके पर भी सफाई व्यवस्था का कार्य दिया जाता है। इस पर करीब वर्ष भर में 50 लाख रुपये के करीब खर्च आता है। जबकि सरकारी सफाई कर्मचारी अलग से हैं। पिछले ठेके की समय अवधि को 31 जुलाई को खत्म हो गई थी। इस दौरान दोबारा ठेका आवंटित किया गया।
इस पर नए ठेकेदार ने प्रतिमाह 3 लाख 95 हजार रुपये धनराशि के हिसाब से ठेके का कार्य लिया है। पहले ही दिन सफाई व्यवस्था को लेकर न ही सफाई कर्मचारियों की संख्या पूरी पाई गई और न ही गाड़ियों का पुख्ता प्रबंध था। इससे शहर में सफाई व्यवस्था सुचारु न होते देख नगर परिषद ने ठेकेदार को नोटिस जारी कर दिया है।
नगर परिषद के ईओ संजय कुमार ने कहा कि शहर की सफाई व्यवस्था को लेकर नगर परिषद गंभीर है। शहर साफ सुथरा बने इसके लिए नगर परिषद लाखों रुपये खर्च कर रही है। सोमवार शहर का निरीक्षण किया तो कई खामियां पाई गईं। सफाई व्यवस्था सुचारु न होने और गाड़ी का पुख्ता प्रबंध न होने पर ठेकेदार को नोटिस दिया है।

सुजानपुर (हमीरपुर)। नगर परिषद सुजानपुर ने सोमवार को सफाई व्यवस्था संतोषजनक न होने पर ठेकेदार को नोटिस जारी किया है। नगर परिषद अधिकारी संजय कुमार ने शहर में निरीक्षण के दौरान कई खामियां पाईं। एक दिन पहले ही नए ठेकेदार ने सफाई व्यवस्था का ठेका आवंटन किया गया था। लेकिन पहले ही दिन नियम शर्तों को कमी देखकर परिषद के अधिकारी ने सख्त रवैया अपनाया।

नगर परिषद सुजानपुर के तहत कुल 9 वार्ड हैं। नगर परिषद सुजानपुर वार्डों के अलावा ऐतिहासिक चौगान की सुंदरता को लेकर जिम्मेवारी संभाले हुए हैं। शहर में सफाई व्यवस्था को सुचारु बनाए रखने के लिए ठेके पर भी सफाई व्यवस्था का कार्य दिया जाता है। इस पर करीब वर्ष भर में 50 लाख रुपये के करीब खर्च आता है। जबकि सरकारी सफाई कर्मचारी अलग से हैं। पिछले ठेके की समय अवधि को 31 जुलाई को खत्म हो गई थी। इस दौरान दोबारा ठेका आवंटित किया गया।

इस पर नए ठेकेदार ने प्रतिमाह 3 लाख 95 हजार रुपये धनराशि के हिसाब से ठेके का कार्य लिया है। पहले ही दिन सफाई व्यवस्था को लेकर न ही सफाई कर्मचारियों की संख्या पूरी पाई गई और न ही गाड़ियों का पुख्ता प्रबंध था। इससे शहर में सफाई व्यवस्था सुचारु न होते देख नगर परिषद ने ठेकेदार को नोटिस जारी कर दिया है।

नगर परिषद के ईओ संजय कुमार ने कहा कि शहर की सफाई व्यवस्था को लेकर नगर परिषद गंभीर है। शहर साफ सुथरा बने इसके लिए नगर परिषद लाखों रुपये खर्च कर रही है। सोमवार शहर का निरीक्षण किया तो कई खामियां पाई गईं। सफाई व्यवस्था सुचारु न होने और गाड़ी का पुख्ता प्रबंध न होने पर ठेकेदार को नोटिस दिया है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: